अपनी भाषा की उन्नति ही हमारे विकास और प्रगति के द्वार खोलती है। इसलिए हमारे इस अनुष्ठान में शामिल होकर साहित्य की सुगन्ध से पूरे शब्द समुदाय को महकाने में हमारी मदद कीजिये।

  • के.कान्त. अस्थाना

    के.कान्त अस्थाना उत्तर प्रदेश राजकीय निर्माण निगम के मुख्य वास्तुविद होने के साथ-साथ प्रसिद्ध व्यंग्यकार हैं।

  • पं. आदित्य द्विवेदी

    पं. आदित्य द्विवेदी अवधी एवं हिन्दी बोली के वरिष्ठ रचनाकर हैं। साथ ही लखनऊ में रहकर समाजसेवा का कार्य कर रहे हैं।

  • डॉ. विष्णु सक्सेना

    डॉ. विष्णु सक्सेना हिन्दी जगत के वर्तमान के सर्वेश्रेष्ठ गीतकारों में शुमार हैं। डॉ. विष्णु सक्सेना पेशे से चिकित्सक हैं।

  • राजकुमार भाटी

    ग्रेटर नोयडा के निवासी राजकुमार भाटी कर्मठ समाजसेवी एवं पत्रकार होने के साथ-साथ एक सशक्त कहानीकार हैं।

  • राजीव रमण अस्थाना

    लखनऊ के रहने वाले राजीव रमण अस्थाना सरल स्वभाव के दयालु समाजसेवी एवं साहित्यिक व्यक्ति हैं।

  • मुकुल महान

    मुकुल महान हिन्दी काव्य मंचों के प्रसिद्ध हास्य कवि होने के साथ-साथ विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं के नियमित लेखक हैं।

  • राजेंद्र पंडित

    राजेन्द्र पंडित मुख्य रूप से पत्रकारिता से जुड़े हैं। लेकिन कवि सम्मेलनों में शिष्ट हास्य कवि के रूप में उनकी विशिष्ट पहचान है।

  • डॉ. प्रीता प्रिया

    बिहार के मुजफ्फरपुर की मूल निवासी डॉ. प्रीता प्रिया एक लेखिका हैं और वर्तमान में हल्द्वानी में निवास कर रही हैं।

  • पंकज प्रसून

    युवा व्यंग्यकार पंकज प्रसून उत्तर प्रदेश के रायबरेली जिले के मूल निवासी हैं। सीडीआरआई लखनऊ में वैज्ञानिक हैं। एक पुस्तक भी प्रकाशित हो चुकी है।

  • अभय सिंह 'निर्भीक'

    इंजीनियरिंग स्नातक अभय सिंह निर्भीक ओजस्वी कवि हैं और वर्तमान में पत्रकारिता से जुड़े हैं।

  • वत्सला पांडे

    वत्सला पाण्डेय शिक्षिका होने के साथ-साथ एक मर्मस्पशी रचनाकर हैं। वत्सला जी आकाशवाणी की उद्घोषिका भी रह चुकी हैं।

  • धर्मेंद्र दीप

    धमेन्द्र दीप एक साहित्यकार हैं साथ ही इन्होंने बॉलीवुड की फिल्मों में डायलॉग भी लिखे हैं।

सर्वेश अस्थाना - संस्थापक सम्पादक

अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सम्मानित एवं प्रसिद्ध कवि एवं पत्रकार हैं। गीत, ग़ज़ल के साथ-साथ गद्यव्यंग्य के समर्पित साहित्यकार हैं। अनाथ बच्चों के उत्थान के लिए 'सर्च फ़ाउंडेशन' के माध्यम से पूर्णरूप से समर्पित हैं।

Continue Reading »

गोविंद अग्रवाल - संस्थापक

जमशेदपुर झारखंड निवासी हैं। साहित्यप्रेमी एवं समाजसेवी भावना के समर्पित व्यक्ति हैं। प्रमुख व्यवसायी हैं तथा साहित्यिक एवं सामाजिक संस्थाओं के संरक्षक हैं।